खिलौनेवाला-Khilaunewala Kavita Class 5th Hindi

1467 views

खिलौनेवाला-khilaunewala

खिलौनेवाला-khilaunewala

 

Class 5th Hindi कविता – खिलौने वाला 


 ‘खिलौनेवाला – khilaunewala kavita Class 5th’ की सुभद्रा कुमारी चौहान जी द्वारा लिखी एक बहुत ही खूबसूरत कविता है …जिसमें उन्होंने एक बच्चे के मन की कोमल भावनाओं को अभिव्यक्त किया है .. |

अक्सर बच्चे बचपन में अपने माता-पिता से खिलौने मॉँगने की जिद करने लगते हैं, और जब हमारे गाँव में या शहर की गलियों में खिलौनेवाला आता है तो बच्चे अपनी मनपसंद के तरह-तरह के खिलौने लेते भी हैं.. कोई गुड्डा, कोई गुड़िया, तो कोई गाडी, आदि-आदि |

मगर इस कविता में एक ऐसा बच्चा भी है जो भगवान राम के चरित्र से बड़ा प्रभावित है, जो बाकि बच्चों की तरह खिलौने नहीं, बल्कि राम जी के अस्त्र, धनुष-बाण लेना चाहता है .. ताकि वो भी उन के जैसे अस्त्र चला सके और अन्यायियों का जड़ से खात्मा कर सके.. ऐसी कोमल और मनमोहक भावनाएँ एक बच्चे के माध्यम से इस कविता में व्यक्त की गयी हैं…


इस खूबसूरत खिलौनेवाला-khilaunewala कविता पर मैंने अपना स्वर देने की कोशिश की है.. उम्मीद है आपको पसंद आएगी |

इन्हें भी पढ़ें – राख की रस्सी पाठ Solutions 

Khilaunewala Kavita –

खिलौनेवाला कविता – सुभद्रा कुमारी चौहान

Related Posts

Leave a Comment

* By using this form you agree with the storage and handling of your data by this website.

This website uses cookies to improve your experience. We'll assume you're ok with this, but you can opt-out if you wish. Accept Read More

Don`t copy text!
UA-172910931-1