Munshi Premchand Quotes in Hindi/प्रेमचंद के अनमोल वचन

2145 views
Munshi Premchand मुंशी प्रेमचंद Quotes & Thoughts

Munshi Premchand Quotes

मुंशी प्रेमचंद के अनमोल वचन

munshi premchand thought in hindi, munshi premchand motivational quotes in hindi munshi premchand best lines in hindi, premchand best quotes in hindi, premchand famous quotes, मुंशी प्रेमचंद quotes, मुंशी प्रेमचंद के अनमोल वचन, प्रेमचंद की अनमोल बातें, प्रेमचंद कुछ विचार
हिंदी साहित्य अनमोल वचन

मुंशी प्रेमचंद के सुविचार

 

munshi premchand quotes in hindi

munshi premchand मुंशी प्रेमचंद

Inspirational Quotes Of Premchand

 

हिंदी साहित्य अनमोल वचन

Munshi Premchand Quotes & Thoughts

 

Munshi Premchand Motivatinal Quotes In hindi

प्रेमचंद के अनमोल वचन

  • यश त्याग से मिलता है धोखाधड़ी से नहीं |
  • अपनी भूल अपने ही हाथों सुधर जाए तो यह उससे कई अच्छा है कि, कोई दूसरा उसे सुधारे |
  • खाने और सोने का नाम जीवन नहीं है, जीवन नाम है सदैव आगे बढ़ते रहना का |
  • सौभाग्य उन्हीं के साथ होता है जो कर्तव्य पथ पर अविचलित रहते हैं |
  • चिंता एक काली दीवार की भाँति चारों ओर से घेर लेती है जिसमें से निकलने की फिर कोई गली नहीं सूझती |

Munshi Premchand Quotes in Hindi

 

प्रेमचंद की अनमोल बातें

  • देश का उद्धार विलासियों द्वारा नहीं हो सकता उसके लिए सच्चा त्यागी होना पड़ेगा |
  • अगर अंधा अंधे का नेतृत्व करे तो दोनों खायी में गिरेंगे |
  • नेत्रहीन के लीयूए दर्पण बेकार है उसी प्रकार बुद्धिहीन के लिए विद्या बेकार है |
  • दौलत से आदमी को जो सम्मान मिलता है वह उसका नहीं उसकी दौलत का सम्मान है |
  • जीवन को सफल बनाने के लिए शिक्षा की जरूरत है, डिग्री की नहीं – हमार सेवा भाव, हमारी नम्रता, हमारे जीवन की सरलता, अगर यह डिग्री अगर हमारी आत्मा जाग्रत नहीं हुई तो कागज़ की डिग्री व्यर्थ है |
  • आलस्य वह रोग है जिसका रोगी कभी ठीक नहीं होता |
  • अच्छे कामों की सिद्धि में बड़ी देर लगती है, पर बुरे कामों की सिद्धि में वह बात नहीं |
  • कुल की प्रतिष्ठा भी विनम्रता और सद्व्यवहार से होती है, हेकड़ी और रुबाब दिखाने से नहीं |
  • सफलता में दोषों को मिटाने की विलक्षण शक्ति है |
  • डरपोक प्राणियों में सत्य भी गूंगा हो जाता है |
  • बल की शिकायतें सब सुनते हैं, निर्बल की फरियाद भी कोई नहीं सुनता |

पढ़ें – प्रेमचंद का जीवन परिचय

Munshi Premchand Quotes in Hindi

प्रेमचंद के अनमोल विचार

प्रेमचंद के अनमोल विचार

  • आकाश में उड़ने वाले पंछी को भी, अपने घर की याद आती है |
  • मै एक मज़दूर हूँ, जिस दिन कुछ लिख न लूँ, उस दिन मुझे रोटी खाने का कोई हक नहीं |
  • अन्याय में सहयोग देना, अन्याय करने के ही समान है |
  • नमस्कार करने वाला व्यक्ति विनम्रता को ग्रहण करता है, और समाज में सभी के प्रेम का पात्र बन जाता है |
  • जीवन की दुर्घटनाओं में, अक्‍सर बड़े महत्‍व के नैतिक पहलू छिपे हुए होते हैं |

हिंदी साहित्य अनमोल वचन

Munshi Premchand मुंशी प्रेमचंद

प्रेमचंद की अनमोल बातें

हिंदी साहित्य कोट्स

Munshi Premchand Quotes in Hindi

  • जीवन का वास्तविक सुख, दूसरों को सुख देने में हैं, उनका सुख लूटने में नहीं
  • अनुराग, यौवन, रूप या धन से उत्पन्न नहीं होता, अनुराग, अनुराग से उत्पन्न होता है
  • कुछ पढ़े लिखे लोगों ने गरीबों को लूटने के लिए एक संस्था बनाई है जिसे सरकार कहते हैं |
– मुंशी प्रेमचंद 

Related Posts

Leave a Comment

* By using this form you agree with the storage and handling of your data by this website.

This website uses cookies to improve your experience. We'll assume you're ok with this, but you can opt-out if you wish. Accept Read More

Don`t copy text!
UA-172910931-1