Ncert Solutions for Class 6 Hindi Chapter 3 Nadan Dost

19563 views
ncert solutions for class 6 hindi chapter -3 नादान दोस्त

वसंत भाग 1 नादान दोस्त

Ncert Solutions for Class 6 Hindi chapter 3 Nadan dost

यहाँ आपको इन सब के बारे में जानकारी मिलेगी - वसंत भाग 1 नादान दोस्त /nadan dost / नादान दोस्त / नादान दोस्त पाठ के प्रश्न उत्तर/ नादान दोस्त के शब्दार्थ/ nadan Dost Question Answers/ Class 6 Hindi Chapter 3 Nadan Dost / नादान दोस्त PDF / नादान दोस्त शब्दार्थ / Nadan Dost bhasha ki baat / Class 6 Hindi Chapter 2 Extra Questions  /नादान दोस्त कक्षा 6/ Class 6 Hindi Chapter 2 pdf / Class 6 Hindi Chapter 2 Notes / Nadan Dost Ncert Solutions

Ncert Soluti0n for Class 6 Hindi Chapter 1 – वह चिड़िया जो / Vah Chidiya Jo

Class 6 Hindi Grammar Worksheet Chapter 2 – वर्ण-विचार / Varn Vichaar

नादान दोस्त शब्दार्थ व प्रश्नोत्तर PDF-पाठ-3

Ncert Solutions / नादान दोस्त पाठ के शब्दार्थ :-

शब्द – अर्थ

कार्निस – दीवार का सबसे ऊपरी भाग के बाहर का हिस्सा या कँगनी
सुध – याद
फुर्सत – आराम
तसल्ली – दिलासा
पेचीदा – कठिन , मुश्किल
जिज्ञासा -= जानने की इच्छा
अधीर – बेचैन , व्याकुल
अंदाजा – अनुमान
स्वीकृत – मंजूर
प्रस्ताव – बातचीत का विषय
छाव – रुचि
उधेड़बुन – समस्या का हल खोजना
हिकमत – उपाय, तरीका
हिफाज़त – सुरक्षा
लू – गर्मी के दिनों में चलने वाली हवा
चेहरे का रंग उड़ना – घबरा जाना
सोटी – छोटी छड़ी
भीगी बिल्ली बनना – डर के मारे कुछ न बोलना
सत्यानाश करना – सब कुछ नष्ट कर डालना।

नादान दोस्त Question Answers :-

Ncert Solutions for Class 6 Hindi Chapter 3 Nadan Dost

गद्यांश आधारित प्रश्न

प्रo१-   केशव के घर के किस हिस्से में चिड़िया ने अंडे दिए थे ?
उत्तर – केशव के घर के कार्निस के ऊपर चिड़िया ने अंडे दिए थे।

प्रo२-  केशव और श्यामा के मन में अण्डों को देखकर क्या सवाल उठते थे ?
उत्तर – केशव और श्यामा के मन में अण्डों को देखकर कई सवाल उठते थे। जैसे – अंडे कितने बड़े होंगे ? अंडे किस रंग के होंगे ? कितने होंगे ? क्या खाते होंगे ? उनमें से बच्चे कैसे निकलेंगे ? आदि।

प्रo३-  अम्मा और बाबू जी उनके सवालों का जवाब क्यों नहीं दे पाते थे ?
उत्तर- अम्मा को घर के काम धंधों से तथा बाबू जी को पढ़ने – लिखने के काम से फुर्सत न मिलती थी। इसलिए वे उनके सवालों का जवाब नहीं दे पाते थे।

प्रo४-  दोनों बच्चों की आँखों में नींद क्यों नहीं थी ?
उत्तर – अम्मा के सोने के बाद दोनों बच्चे अण्डों के पास जाकर उनकी हिफाज़त का उपाय करना चाहते थे। इसलिए उनकी आँखों में नींद नहीं थी।

प्रo५- केशव कार्निस तक कैसे पहुँचा ?
उत्तर – केशव कमरे से एक स्टूल उठा लाया। लेकिन जब उससे भी काम न चला तो नहाने की चौकी लाकर स्टूल के नीचे रखी और स्टूल पर चढ़कर कार्निस तक पहुँच गया।

नादान दोस्त पाठ के  प्रश्नोत्तर

प्रo६-  श्यामा स्टूल को अच्छी तरह क्यों नहीं पकड़ रही थी ?
उत्तर – श्यामा स्टूल को अच्छी तरह इसलिए नहीं पकड़ रही थी क्योंकि उसका दिल कार्निस पर था। उसका ध्यान बार – बार उधर चला जाता था और हाथ ढीले पड़ जाते थे।

प्रo७-  कार्निस पर केशव ने क्या देखा ?
उत्तर – कार्निस पर केशव ने देखा कि थोड़े तिनके बिछे हुए थे और उन पर तीन अंडे रखे हुए थे।

प्रo८-  केशव ने उन तीन अण्डों को किसके ऊपर रखा ?
उत्तर – केशव ने श्यामा से चिथड़े लाने के लिए कहा तो वह पुरानी धोती का एक टुकड़ा ले आई, केशव ने उस कपड़े की कई तह करके गद्दी बनाकर उस पर उन तीन अण्डों को रख दिया।

प्रo९-  केशव ने चिड़िया व उसके अण्डों से निकलने वाले बच्चों को धूप से बचाने और खाने – पीने का क्या प्रबंध किया ?
उत्तर – केशव ने उन्हें धूप से बचाने के लिए टोकरी के द्वारा छाया का प्रबंध किया। साथ ही टोकरी के नीचे पानी की प्याली और चावल रख दिए।

Ncert Solutions for Class 6 Hindi – नादान दोस्त प्रश्न-उत्तर

अभ्यास – कहानी से –

प्रश्न 1.अंडों के बारे में केशव और श्यामा के मन में किस तरह के सवाल उठते थे? वे आपस ही में सवाल-जवाब करके अपने दिल को तसल्ली क्यों दे दिया करते थे?
उत्तर- केशव और श्यामा के मन में अण्डों के आकार, रंग , संख्या , भोजन उनमें से बच्चे कैसे निकलेंगे , बच्चों के पंख कैसे होंगे , आदि सवाल उठते थे। वे आपस में सवाल – जवाब करके अपने दिल को तसल्ली इसलिए दे दिया करते थे क्योंकि उनके सवालों का जवाब देने के लिए अम्मा तथा बाबू जी के पास समय नहीं था।

प्रश्न 2. केशव ने श्यामा से चिथड़े, टोकरी और दाना-पानी मँगाकर कार्निस पर क्यों रखे थे ?
उत्तर- केशव और श्यामा को अण्डों से बहुत लगाव था। वे अण्डों को सुरक्षित रखना चाहते थे, इसलिए केशव ने श्यामा से चिथड़े , टोकरी और दाना – पानी मँगाकर कार्निस पर रखा।

प्रश्न 3. केशव और श्यामा ने चिड़िया के अंडों की रक्षा की या नादानी?

उत्तर- केशव और श्यामा ने अपनी ओर से तो उन अंडों की रक्षा करनी चाही, पर यह उनकी नादानी सिद्ध हुई। चिड़िया अपने अंडों की रक्षा स्वयं कर सकती थी। बच्चे ने अंडों की रक्षा करने के प्रयास में उन्हें छूकर गंदा कर दिया। उन्हें नहीं मालूम था कि यदि वे अंडों को छू लेंगे तो चिड़िया उन्हें छोड़ ही देगी। वास्तव में वे तो उन अंडों की रक्षा करना चाहते थे लेकिन नादानी में रक्षा में हत्या हो गई।

कहानी से आगे –

प्रश्न1 – केशव और श्यामा ने अण्डों के बारे में क्या-क्या अनुमान लगाए ? यदि उस जगह तुम होते तो क्या अनुमान लगाते और क्या करते ?
उत्तर – केशव और श्यामा ने अण्डों के बारे में निम्नलिखित अनुमान लगाए –
१. अब उन अण्डों से बच्चे निकल आए होंगे
२. चिड़िया इतना दाना कहाँ से लाएगी
३. गरीब बच्चे इस तरह तो भूखे मर जाएँगे

यदि केशव और श्यामा की जगह मैं होता तो निम्नलिखित कार्य करता –
१. बच्चे निकल आए हैं या नहीं ये देखता
२. मैं उन अण्डों को छूता नहीं
३. बच्चे निकलने का इंतज़ार करता
४. बच्चे निकल आने पर ही वहाँ चावल तथा पानी की कटोरी रखता ताकि बच्चे भूखे – प्यासे न रहें।

प्रश्न २- माँ के सोते ही केशव और श्यामा दोपहर में बाहर क्यों निकल आए ? माँ के पूछने पर भी दोनों में से किसी ने किवाड़ खोलकर दोपहर में बाहर निकलने का कारण क्यों नहीं बताया ?
उत्तर – दोपहर के समय में माँ पहले दोनों को सुलाकर सोती थी। वही समय ऐसा था जब वे बाहर आकर चुपचाप बच्चों को देख सकते थे। यदि             माँ उनको देख लेती तो अण्डों को हाथ न लगाने देती। इसलिए वे दोनों दोपहर में बाहर निकल आए। उन्होंने माँ के पूछने पर भी बाहर निकलने का कारण इसलिए नहीं बताया क्योंकि केशव और श्यामा एक – दूसरे की पिटाई नहीं चाहते थे और वैसे भी दोनों ही इस कसूर में बराबर के हिस्सेदार थे।

प्रश्न ३- प्रेमचंद ने इस कहानी का नाम नादान दोस्त रखा। तुम इसे क्या शीर्षक देना चाहोगे ?
उत्तर – इसका अन्य शीर्षक ‘बच्चों की नादानी’ , बचपन की नादानियाँ’ या ‘अण्डों की हिफाज़त’ हम देना चाहेंगे।

Ncert Solutions Nadan Dost Extra Questions – नादान दोस्त अतिरिक्त प्रश्नोत्तर

प्रश्न १   सवेरा होते ही आँखें मलते केशव और श्यामा कार्निस के सामने क्यों पहुँच जाते थे ?
उत्तर – क्योंकि कार्निस के ऊपर एक चिड़िया ने अंडे दिए थे। वे अण्डों को तथा चिड़िया को देखने को उत्सुक रहते थे।

प्रश्न २   माँ ने अण्डों के टूट जाने के बाद केशव से क्या कहा ?
उत्तर – माँ ने केशव से कहा , की तू इतना बड़ा हुआ , तुझे अभी इतना भी मालूम नहीं की छूने से चिड़िया के अंडे गंदे हो जाते हैं। चिड़िया फिर उन्हें नहीं सेती। इसका पाप तेरे सर पड़ेगा। तूने एक साथ तीन-तीन जानें ली हैं।

प्रश्न ३ ‘नादान दोस्त’ कहानी पढ़कर बच्चों के किस मानसिकता का पता चलता है ?
उत्तर – इस कहानी के नाम से ही स्पष्ट है कि बचपन में बच्चे नादान होते हैं , उन्हें दोस्ती , दुश्मनी , ईर्ष्या – द्वेष , निंदा – स्तुति आदि से कोई लेना – देना नहीं होता। उनके लिए अच्छी – बुराई का कोई अलग अर्थ नहीं होता। वे नासमझ एवं अबोध होते हैं। इस कहानी में केशव व श्यामा चिड़िया की मदद करना चाहते हैं , वे उसके अण्डों को सुरक्षित रखने के अथक प्रयास करते हैं परन्तु सब कुछ उल्टा हो जाता है और अंडे टूट जाते हैं।

Download नादान दोस्त PDF

नादान दोस्त PDF linkनादान दोस्त शब्दार्थ व प्रश्नोत्तर PDF-पाठ-3 Solution

इन्हें भी देखें —

Class 6 Hindi Chapter 1 Poem को वीडियो के माध्यम से समझें — वह चिड़िया जो कविता भावार्थ / Vah Chidiya Jo Explaination

Related Posts

1 comment

Uhan August 21, 2022 - 4:26 am

Good one

Reply

Leave a Comment

* By using this form you agree with the storage and handling of your data by this website.

This website uses cookies to improve your experience. We'll assume you're ok with this, but you can opt-out if you wish. Accept Read More

Don`t copy text!
UA-172910931-1