संस्कृत आमोदिनी कक्षा 6 पाठ 1 Solution [ मातृभूमे! नम:] 

0 comment 71 views
संस्कृत आमोदिनी कक्षा 6 पाठ 1 solution

 

Solution for Class 6 Sanskrit Amodini book Lesson 1 –

संस्कृत आमोदिनी कक्षा 6 पाठ 1 (मातृभूमे! नम:)


Class 6 Sanskrit आमोदिनी  के प्रथम पाठ  – मातृभूमे!नम: पाठ के शब्दार्थ, प्रश्न-उत्तर एवं सरल हिन्दी अनुवाद इस लेख में प्रस्तुत किए जा रहे हैं – आमोदिनी पुस्तक (Uttrakhand Board) उत्तराखण्ड राज्य के विद्यालयों में कक्षा 6 से 8 तक पढ़ाई जाती है, यहाँ संस्कृत पुस्तक आमोदिनी के पाठ 1 जो कक्षा ६ के पाठ्यक्रम में हैं – पहला पाठ मातृभूमे! नम: पाठ में आयी कठिनाई को दूर करने के लिए सरल भाषा में हिन्दी अनुवाद अर्थ सहित, कठिन शब्दों के अर्थ, एवं महत्त्वपूर्ण प्रश्न उत्तर दिये जा रहे हैं, Solution for Chapter 1 Book Amodini मातृभूमे!नम:

प्रथम:पाठ: – मातृभूमे! नम: (सरल हिन्दी अनुवाद)

(हे मातृभूमि! तुम्हें नमस्कार है)


मातृभूमे! नमो मातृभूमे! नम:।  

मातृभूमे! नमो मातृभूमे! नम:।।  

हिंदी अनुवाद

हे मातृभूमि! तुम्हें नमस्कार हैहे मातृभूमि! तुम्हें नमस्कार।  

अग्रतस्ते नम:पृष्ठतस्ते नम:  

ऊर्ध्वतस्ते नम:नमश्चाप्यधस्ते नम‌ : 

हिंदी अनुवाद

हे मातृभूमि! तुम्हें आगे से नमस्कार है, पीछे से नमस्कार है, उपर से नमस्कार है और नीचे से नमस्कार हैतुम्हें हर ओर से नमस्कार है।  

वामतस्ते नमो दक्षिणे ते नम:।  

 मातृभूमे! नमो मातृभूमे! नम:।।  

हिन्दी अनुवाद

हे मातृभूमि! तुम्हें बायें से नमस्कार है, दाहिने से नमस्कार है, हे मातृभूमि! तुम्हें नमस्कार हैतुम सबसे महान हो, इसलिए तुम्हें सदा नमस्कार है।  

ते गिरिभ्यो नमस्ते नदीभ्यो नम: 

ते वनेभ्यो नमो जनपदेभ्यो नम: 

हिन्दी अनुवाद

हे मातृभूमि! तुम्हारे पर्वतों को नमस्कार है, नदियों को नमस्कार है। तुम्हारे जंगलों को नमस्कार है, तुम्हारे जिलों को नमस्कार है;गाँवों को नमस्कार है।  

ते कणेभ्यो नमस्ते अणुभ्यो नम:।  

मातृभूमे! नमो मातृभूमे! नम:।।  

हिन्दी अनुवाद

हे मातृभूमि! तुम्हारे कणों को नमस्कार है, अणुओं को नमस्कार है। हे मातृभूमि! तुम्हें नमस्कार है। तुम सबसे महान हो, इसलिए तुम्हें सदा नमस्कार है। 


इन्हें भी देखें

वह चिड़िया जो कविता : भावार्थ 

नादान दोस्त पाठ के प्रश्न उत्तर 


संस्कृत आमोदिनी कक्षा 6 पाठ 1

मातृभूमे! नम: पाठ के शब्दार्थ–  

  • मातृभूमे = हे मातृभूमि!
  • नम:  = नमस्कार
  • अग्रत:  =  आगे से          
  • ते   =  तुम।
  • पृष्ठत:  =  पीछे से
  • ऊर्ध्वत:  =  ऊपर से
  • अध:  =  नीचे से
  • वामत:  =   बाएँ से
  • गिरिभ्य:  =  पर्वतों को
  • नदीभ्य:  =  नदियों को
  •  वनेभ्य:   =   वनों को
  •  जनपदेभ्य:  =  जिलों को
  •  कणेभ्यो   =  कणों को
  • अणुभ्य:  =  अणुओं को

संस्कृत आमोदिनी कक्षा 6 पाठ 1

मातृभूमे! नम: – अभ्यास प्रश्न

  • प्रश्न 1 – पंक्तिषु रिक्तस्थानानि पूरयत- (पंक्तियों में रिक्त स्थान की पूर्ति करो)
  1. अग्रतस्ते नम: ………  नम:।
  2. मातृभूमे! ………. मातृभूमे नम:।।
  3. ते …………. नमस्ते अणुभ्यो नम:।
  4. ते गिरिभ्यो नमस्ते ………. नम:।।
  1. अग्रतस्ते नम: पृष्ठतस्ते नम:।
  2.  मातृभूमे! नमो मातृभूमे! नम:।।
  3. ते कणेभ्यो नमस्ते अणुभ्यो नम:।
  4. ते गिरिभ्यो नमस्ते नदीभ्यो नम:।।

संस्कृत आमोदिनी कक्षा 6 पाठ 1

मातृभूमे! नम: – प्रश्न उत्तर-

प्रश्न 2 –

  • पूर्वस्यां दिशि का उदेति 

  उत्तर पूर्वस्यां दिशि सूर्य: उदेति।  

  • शरदस्य उत्तरत: किम् अस्ति 

उत्तरशरदस्य उत्तरत: कन्दुकम् अस्ति।  

  • फलानि कुत्र सन्ति 

उत्तर– फलानि शरदस्य दक्षिणत: सन्ति।  

  • शरदस्य पश्चिमत: किम् अस्ति 

उत्तरशरदस्य पश्चिमत: पुस्तकम् अस्ति। 


संस्कृत आमोदिनी कक्षा 6 पाठ 1

प्रश्न 3 – उचितम् मेलनम् कुरुत- (उचित मिलान कीजिए)

  1. माता  –  पर्वत: 
  2. गिरि  –   सरिता 
  3. नदी   –   काननम् 
  4. वनम्   –   जननी

  उत्तर –

  1. माताजननी 
  2. गिरि  –  पर्वत 
  3. नदी सरिता 
  4. वनम्  – काननम् 

प्रश्न 4- विलोमपदानि लिखत- (विलोम पद लिखिए)

  • माता – ……
  • अग्रत: – …..  
  • ऊर्ध्वत: – …… 
  • वामत: – …….

उत्तर –

  • मातापिता 
  • अग्रत:- पृष्ठत: 
  • ऊर्ध्वत: –  अध: 
  • वामत: – दक्षिणत:

संस्कृत आमोदिनी कक्षा 6 पाठ 1

प्रश्न 5 – उचित पदानि चित्वा वाक्यानि  पूरयत 

क – परोपकार: पुण्याय भवति। (पुण्यस्य, पुण्याय)

ख – प्रधानाचार्य: छात्रेभ्य: पारितोषिकं ददाति।(छात्रं, छात्रेभ्य: )

ग – तत्र ते देवेभ्य: पुष्पाणि अर्पयन्ति। (देव:, देवेभ्य: )

घ – माता बालकाय मोदकम् ददाति।(बालकाय, बालक: )

प्रश्न 6 -उचितं मेलनं कुरूत – (उचित मिलान कीजिए)

  • दीपक: – दानाय
  • क्रीडनकम् – पोषणाय
  • धनम्पुण्याय
  • दुग्धम् – प्रकाशाय 
  • परोपकार: – खेलनाय 

उत्तर  –   

  • दीपक:  – प्रकाशाय
  • क्रीडनकम्  –खेलनाय
  • धनम्   – दानाय
  • दुग्धम्पोषणाय
  • परोपकार: –पुण्याय

    संस्कृत आमोदिनी कक्षा 6 पाठ 1

प्रश्न 7 – उदाहरणानुसारम् निम्नलिखित पदानि संबोधने परिवर्तयत – (उदाहरण के अनुसार नीचे लिखे पदों (शब्दों) को संबोधन में परिवर्तित कीजिए)

यथा (जैसे) – चंद्र – हे चंद्र / छात्रा – हे छात्रे

क) रामः – हे रामः!

ख) छात्र – हे छात्र!

ग) शिष्य – हे शिष्य!

यथा (जैसे) – छात्रा – हे छात्रे

क) लता – हे लते!

ख) बाला – हे बाले!

ग) प्रियंवदा – हे प्रियंवदा!

Leave a Comment

Don`t copy text!