UGC NET Hindi Syllabus 2022 । नेट हिंदी पाठ्यक्रम PDF ।

1643 views
UGC NET Hindi Syllabus

UGC NET Hindi Syllabus 2022
(यू० जी० सी० नेट हिंदी पाठ्यक्रम 2022)

इस लेख में हम UGC-NET/JRF Hindi Syllabus 2022 के सन्दर्भ में आपसे बात करेंगे, साथ ही साथ नेट/जे० आर० एफ० हिन्दी विषय का सम्पूर्ण Syllabus/पाठ्यक्रम भी आपके समक्ष रखेंगे, आप यदि यूजीसी नेट हिंदी सिलेबस/पाठ्यक्रम 2022 की PDF डाउनलोड करना चाहते हैं तो वह भी आपको उपलब्ध कराई जाएगी ।

आप जानते हैं नेट/जे०आर० एफ० की परीक्षा जून और दिसम्बर माह में प्रतिवर्ष दो बार (यू० जी० सी०) विश्वविद्यालय अनुदान आयोग द्वारा आयोजित की जाती है । यह एक राष्ट्रीय पात्रता परीक्षा है जिसमें सफल होकर आप शोध कार्यों में अपना करियर बना सकते हैं और इसके अलावा असिस्टेंट प्रोफेसर जैसे उच्च पदों के लिए आप आवेदन करने योग्य बन जाते हैं ।

क्या यह नेट हिंदी विषय का सिलेबस Updated है ?

जी हाँ, विश्वविद्यालय अनुदान आयोग द्वारा जारी किया गया यह नवीनतम (New) पाठ्यक्रम (Syllabus) है, जो नेट हिंदी विषय हेतु (2022) की परीक्षा के लिए जारी किया है, आपको बता दें यू जी सी ने 2020 से अभी तक नेट हिंदी विषय के पाठ्यक्रम में कोई बदलाव नहीं किया है, आप जिस समय इस लेख व पाठ्यक्रम को पढ़ रहे हैं उस समय तक यही पाठ्यक्रम है, यदि भविष्य में कोई भी बदलाव अगर होता है तो हम आपको अवश्य अवगत करा देंगे।

नेट हिंदी परीक्षा के लिए सामान्य टिप्स –

नेट/जे०आर० एफ० हिन्दी की परीक्षा में सफल होने के लिए आपको एक सही रणनीति, सही पुस्तकों का अध्ययन व जिस विषय से आप इस परीक्षा को देने जा रहे हैं उस विषय के सिलेबस की सम्पूर्ण जानकारी होनी परम आवश्यक है ।

यहाँ पर हम UGC NET Hindi Syllabus के सन्दर्भ में आपसे बात कर रहे हैं तो सबसे पहले हिंदी नेट के सिलेबस को आपको भलीभाँति पढ़ कर, समझकर एक सही रणनीति बनानी चाहिए, और नेट हिंदी के इस पाठ्यक्रम के हर एक टॉपिक पर आपको बारीकी से अध्ययन करना चाहिए, हालाँकि UGC NET Hindi का यह सिलेबस काफी विस्तृत है लेकिन यदि आपने सिलेबस को ध्यान में रखकर, समय नियोजन के साथ अच्छे से तैयारी की तो, निश्चित ही आप इस NET/JRF HIndi की पात्रता परीक्षा में सफलता मिलेगी ।

यह तो UGC-NET/JRF HIndi Syllabus को लेकर एक सामान्य सी टिप्स थी, नेट हिन्दी विषय की तयारी में कैसी रणनीति बनाई जानी चाहिए, किन-किन पुस्तकों का अध्ययन करना चाहिए इस सम्बन्ध में हम फिर कभी अवश्य आपसे बात करेंगे, फिल्हाल अभी UGC-NET HIndi Syllabus 2022 को हम आपके समक्ष रखते हैं और इस लेख के अवसान में आपको UGC-NET HIndi Syllabus 2022 (Paper-1 / Paper-2) की PDF भी मिल जाएगी, जिसे आप आसानी से डाउनलोड कर सकते हैं ।

 

UGC NET Hindi Syllabus 2022
यू जी सी नेट हिंदी पाठ्यक्रम 2022
(paper – 2)

यहाँ पर आपको नेट हिंदी विषय का (पेपर-2) सिलेबस दिया जा रहा है, यदि आपको नेट हिंदी विषय में (पेपर-1) का Syllabus देखना है तो अंत में PDF दी गई है, आप जिसे डाउनलोड कर पढ़ व देख सकते हैं । नेट हिंदी (पेपर -2) में कुल 10 इकाइयाँ हैं जिसका Syllabus अधोलिखित है –

(UGC NET Hindi Syllabus 2022)

इकाई- I हिंदी भाषा और उसका विकास

हिंदी की ऐतिहासिक पृष्ठभूमि: प्राचीन भारतीय आर्य भाषाएँ, मध्यकालीन भारतीय आर्य भाषाएँ – पाली, प्राकृत- शौरसेनी, अर्धमागधी, मागधी, अपभ्रंश और उनकी विशेषताएँ, अपभ्रंश अवहठ और पुरानी हिंदी का संबंध, आधुनिक भारतीय आर्य भाषाएँ और उनका वर्गीकरण ।

हिंदी का भौगोलिक विस्तार: हिंदी की उपभाषाएँ, पश्चिमी हिंदी, पूर्वी हिंदी, राजस्थानी, बिहारी तथा पहाड़ी वर्ग और उसकी बोलियाँ
खड़ीबोली, ब्रज और अवधी की विशेषताएँ ।

हिंदी के विविध रूप: हिंदी, उर्दू, दक्खिनी, हिंदुस्तानी ।

हिन्दी का भाषिक स्वरूप: हिंदी की स्वनिम व्यवस्था- खंड्य और खंड्येतर, हिंदी ध्वनियों के वर्गीकरण का आधार, हिंदी शब्द-रचना- उपसर्ग, प्रत्यय, समास, हिंदी की रूप-रचना- लिंग, वचन और कारक व्यवस्था के संदर्भ में संज्ञा, सर्वनाम, विशेषण और क्रिया-रूप, हिंदी-वाक्य-रचना ।

हिंदी भाषा-प्रयोग के विविध रूप: बोली, मानक भाषा, राजभाषा, राष्ट्रभाषा और संपर्क भाषा ।

संचार माध्यम और हिंदी, कंप्यूटर और हिंदी, हिंदी की संवैधानिक स्थिति

देवनागरी लिपि: विशेषताएँ और मानकीकरण ।

इकाई – II: हिंदी साहित्य का इतिहास

हिंदी साहित्येतिहास दर्शन, हिंदी साहित्य के इतिहास लेखन की पद्धतियाँ

हिंदी साहित्य का काल-विभाजन और नामकरण, आदिकाल की विशेषताएँ एवं साहित्यिक प्रवृत्तियाँ, रासो-साहित्य, आदिकालीन हिंदी का जैन साहित्य, सिद्ध और नाथ साहित्य, अमीर खुसरो की हिन्दी कविता, विद्यापति और उनकी पदावली तथा लौकिक साहित्य ।

भक्तिकाल

भक्ति-आंदोलन के उदय के सामाजिक-सांस्कृतिक कारण, भक्ति-आंदोलन का अखिल भारतीय स्वरूप और उसका अंतःप्रादेशिक वैशिष्ठ्य ।
भक्ति-काव्य की सामाजिक-सांस्कृतिक पृष्ठभूमि, आलवार संत ।
भक्ति-काव्य के प्रमुख संप्रदाय और उनका वैचारिक आधार । निर्गुण-सगुण कवि और उनका काव्य ।

रीतिकाल

सामाजिक-सांस्कृतिक पृष्ठभूमि, रीतिकाल की प्रमुख प्रवृत्तियाँ (रीतिबद्ध, रीतिसिद्ध, रीतिमुक्त), रीतिकवियों का आचार्यत्व । रीतिकाल के प्रमुख कवि और उनका काव्य ।

आधुनिक काल

हिंदी गद्य का उद्भव और विकास – भारतेंदु पूर्व हिंदी गद्य, 1857 की क्रांति और सांस्कृतिक पुनर्जागरण, भारतेंदु और उनका युग, पत्रकारिता का आरंभ और 19वीं शताब्दी की हिंदी पत्रकारिता, आधुनिकता की अवधारणा ।

द्विवेदी युग: महावीर प्रसाद द्विवेदी और उनका युग, हिंदी नवजागरण और सरस्वती, राष्ट्रीय काव्य-धारा के प्रमुख कवि, स्वच्छंदतावाद और उनके प्रमुख कवि ।

छायावाद: छायावादी काव्य की प्रमुख विशेषताएं, छायावाद के प्रमुख कवि प्रगतिवाद की अवधारणा, प्रगतिवादी काव्य और उनके प्रमुख कवि, प्रयोगवाद और नई कविता, नई कविता के कवि समकालीन कविता (वर्ष 2000 तक), समकालीन साहित्यिक पत्रकारिता ।

(UGC NET Hindi Syllabus)

हिंदी साहित्य की गद्य विधाएँ
  • हिंदी उपन्यास: भारतीय उपन्यास की अवधारणा, प्रेमचंद पूर्व उपन्यास, प्रेमचंद और उनका युग, प्रेमचंद के परवर्ती उपन्यासकार (वर्ष 2000 तक)
  • हिंदी कहानी हिंदी: कहानी का उद्भव और विकास, 20वीं सदी की हिंदी कहानी और प्रमुख कहानी-आन्दोलन एवं प्रमुख कहानीकार
  • हिंदी नाटक: हिंदी नाटक और रंगमंच, विकास के चरण, भारतेंदु युग, प्रसाद युग, प्रसादोत्तर युग, स्वातंत्र्योत्तर युग, साठोत्तर युग और नया नाटक, प्रमुख नाट्यकृतियां, प्रमुख नाटककार (वर्ष 2000 तक) हिंदी एकांकी: हिंदी रंगमंच और विकास के चरण, हिंदी का लोक रंगमंच, नुक्कड़ नाटक
  • हिंदी निबंध: हिंदी निबंध का उद्भव और विकास, हिंदी निबंध के प्रकार और प्रमुख निबंधकार
  • हिंदी आलोचना: हिंदी आलोचना का उद्भव और विकास, समकालीन हिंदी आलोचना एवं उसके विविध प्रकार, प्रमुख आलोचक
  • हिंदी की अन्य गद्य विधाएं: रेखाचित्र, संस्मरण, यात्रा-साहित्य, आत्मकथा, जीवनी और रिपोर्ताज, डायरी
  • हिंदी का प्रवासी साहित्य: अवधारणा एवं प्रमुख साहित्यकार ।

इकाई- III: साहित्यशास्त्र

  • भारतीय काव्यशास्त्र काव्य के लक्षण, काव्य हेतु और काव्य प्रयोजन, प्रमुख संप्रदाय और सिद्धांत– रस, अलंकार, रीति, ध्वनि, वक्रोक्ति और औचित्य, रस निष्पत्ति, साधारणीकरण, शब्दशक्ति, काव्यगुण, काव्य दोष ।
  • पाश्चात्य काव्यशास्त्र – प्लेटो के काव्य सिद्धांत, अरस्तू: अनुकरण सिद्धांत, त्रासदी विवेचन, विरेचन सिद्धांत, वर्ड्सवर्थ का काव्य भाषा सिद्धांत, कॉलरिज: कल्पना और फैंटेसी, टी. एस. इलियट: निर्वैक्तिकता का सिद्धांत, परंपरा की अवधारणा, आई.ए. रिचर्ड्स: मूल्य सिद्धांत, संप्रेषण सिद्धांत तथा काव्य-भाषा सिद्धांत, रूसी रूपवाद, नई समीक्षा, मिथक, फ़न्तासी, कल्पना, प्रतीक, बिंब।

इकाई- IV: वैचारिक पृष्ठभूमि

भारतीय नवजागरण और स्वाधीनता आंदोलन की वैचारिक पृष्ठभूमि
हिंदी नवजागरण, खड़ीबोली आंदोलन
फोर्ट विलियम कॉलेज, भारतेंदु और हिंदी नवजागरण, महावीर प्रसाद द्विवेदी और हिंदी नवजागरण
गांधी दर्शन
अंबेडकर दर्शन
लोहिया दर्शन
मार्क्सवाद
मनोविश्लेषणवाद
अस्तित्ववाद
उत्तर आधुनिकतावाद
अस्मितामूलक विमर्श (दलित, स्त्री, आदिवासी एवं अल्पसंख्यक)

इकाई- V: हिंदी कविता

पृथ्वीराज रासो – रेवा तट
अमीर खुसरो – खुसरो की पहेलियाँ और मुकरियां
विद्यापति की पदावली (सं. डॉ. नगेंद्र झा) – पद संख्या 1 से 25
कबीर – (सं. हजारी प्रसाद द्विवेदी) – पद संख्या 160 से 209
जायसी ग्रंथावली (सं. रामचंद्र शुक्ल) नागमती वियोग खंड
सूरदास – भ्रमरगीत सार (सं. रामचंद्र शुक्ल) – पद संख्या 21 से 70
तुलसीदास: रामचरितमानस (उत्तरकांड)
बिहारी सतसई – (सं. जगन्नाथदास रत्नाकर)- दोहा संख्या 1 से 50
घनानंद कवित्त – (सं. विश्वनाथ मिश्र) – कवित्त संख्या 1 से 30
मीरा – (सं. विश्वनाथ त्रिपाठी) – प्रारंभ से 20 पद
अयोध्या सिंह उपाध्याय हरिऔध – प्रियप्रवास
मैथिलीशरण गुप्त – भारत भारती, साकेत (नवम् सर्ग)
जयशंकर प्रसाद – आंसू, कामायनी (श्रद्धा, लज्जा और इड़ा सर्ग)
निराला – जूही की कली, जागो फिर एक बार, सरोज स्मृति, राम की शक्ति पूजा, कुकुरमुत्ता, बांधो न नाव इस ठांव बंधु
सुमित्रानंदन पंत – परिवर्तन, प्रथम रश्मि
महादेवी वर्मा – बीन भी हूं मैं तुम्हारी रागिनी भी हूं, मैं नीर भरी दुख की बदली, फिर विकल हैं प्राण मेरे, यह मंदिर का दीप, द्रुत झरो जगत् के जीर्ण पत्र
रामधारी सिंह दिनकर – उर्वशी (तृतीय अंक), रश्मिरथी
नागार्जुन – कालिदास, बादल को घिरते देखा है, अकाल और उसके बाद, खुरदरे पैर, शासन की बंदूक़, मनुष्य हूं
सच्चिदानंद हीरानंद वात्स्यायन अज्ञेय- कलगी बाजरे की, यह दीप अकेला, हरी घास पर क्षण भर, असाध्यवीणा, कितनी नावों में कितनी बार
भवानी प्रसाद मिश्र – गीतफ़रोश, सतपुड़ा के जंगल
मुक्तिबोध – भूल ग़लती, ब्रह्मराक्षस, अंधेरे में
धूमिल – नक्सलबाड़ी, मोचीराम, अकाल-दर्शन, रोटी और संसद ।

इकाई- VI: हिंदी उपन्यास

पंडित गौरी दत्त – देवरानी जेठानी की कहानी
लाला श्रीनिवास दास- परीक्षा गुरु
प्रेमचंद – गोदान
अज्ञेय – शेखर एक जीवनी (भाग-1)
हजारी प्रसाद द्विवेदी – बाणभट्ट की आत्मकथा
फणीश्वर नाथ रेणु – मैला आंचल
यशपाल – झूठा सच
अमृतलाल नागर – मानस का हंस
भीष्म साहनी – तमस
श्रीलाल शुक्ल – राग दरबारी
कृष्णा सोबती – जिंदगी नामा
मन्नू भंडारी – आपका बंटी
जगदीश चंद्र – धरती धन न अपना

इकाई- VII: हिंदी कहानी

राजेंद्र बाला घोष (बंग महिला) – चंद्रदेव से मेरी बातें, दुलाईवाली
माधव सप्रे – एक टोकरी भर मिट्टी
सुभद्रा कुमारी चौहान – राही
प्रेमचन्द – ईदगाह, दुनिया का अनमोल रतन
राजा राधिकारमण प्रसाद सिंह – कानों में कंगना
चंद्रधर शर्मा गुलेरी- उसने कहा था
जयशंकर प्रसाद- आकाशदीप
जैनेंद्र – अपना अपना भाग्य
फणीश्वर नाथ रेणु – तीसरी क़सम, लाल पान की बेगम
अज्ञेय – गैंग्रीन
शेखर जोशी – कोसी का घटवार
भीष्म साहनी – अमृतसर आ गया है, चीफ की दावत
कृष्णा सोबती – सिक्का बदल गया
हरिशंकर परसाई – इंस्पेक्टर मातादीन चांद पर
ज्ञानरंजन – पिता
कमलेश्वर – राजा निरबंसिया
निर्मल वर्मा – परिन्दे

इकाई-VIII: हिंदी नाटक

भारतेंदु – अंधेर नगरी, भारत दुर्दशा
जयशंकर प्रसाद – चंद्रगुप्त, स्कंदगुप्त, ध्रुवस्वामिनी
धर्मवीर भारती – अंधायुग
लक्ष्मीनारायण लाल – सिंदूर की होली
मोहन राकेश – आधे अधूरे, आषाढ़ का एक दिन
हबीब तनवीर – आगरा बाज़ार
सर्वेश्वर दयाल सक्सेना – बकरी
शंकरशेष – एक और द्रोणाचार्य
उपेंद्रनाथ अश्क – अंजू देवी
मन्नू भंडारी – महाभोज

इकाई-IX: हिंदी निबंध

भारतेंदु – दिल्ली दरबार दर्पण, भारतवर्षोन्नति कैसे हो सकती है
प्रताप नारायण मिश्र – शिवमूर्ति
बालकृष्ण भट्ट – शिव शंभू के चिट्ठे
रामचंद्र शुक्ल – कविता क्या है
हजारी प्रसाद द्विवेदी – नाखून क्यों बढ़ते हैं
विद्यानिवास मिश्र – मेरे राम का मुकुट भीग रहा है
अध्यापक पूर्णसिंह – मज़दूरी और प्रेम
कुबेरनाथ राय – उत्तराफाल्गुनी के आसपास
विवेकी राय – उठ जाग मुसाफिर
नामवर सिंह – संस्कृति और सौंदर्य

इकाई- X: आत्मकथा, जीवनी तथा अन्य गद्य विधाएं

रामवृक्ष बेनीपुरी – माटी की मूरतें
महादेवी वर्मा – ठाकुरी बाबा
तुलसीराम – मुर्दहिया
शिवरानी देवी – प्रेमचंद घर में
मन्नू भंडारी – एक कहानी यह भी
विष्णु प्रभाकर – आवारा मसीहा
हरिवंश राय बच्चन – क्या भूलूं क्या याद करूं
रमणिका गुप्ता – आपहुदरी
हरिशंकर परसाई – भोलाराम का जीव
कृष्ण चंदर – जामुन का पेड़
दिनकर – संस्कृति के चार अध्याय
मुक्तिबोध – एक साहित्यिक की डायरी
राहुल सांकृत्यायन – मेरी तिब्बत यात्रा
अज्ञेय – अरे यायावर रहेगा याद

उम्मीद है आपको UGC NET/JRF Hindi Syllabus के सन्दर्भ में पूरी जानकारी मिल गई होगी, हमने (नेट पेपर-1)(नेट हिंदी पेपर-2) सिलेबस की पीडीएफ नीचे दी है जिसे आप डाउनलोड कर सकते हैं, आप इस सिलेबस को अच्छी तरह से समझकर, पुराने पेपर्स को देखकर उनका आंकलन करें कि, किस टॉपिक से कितने प्रश्न पूछे गए हैं, व उन प्रश्नों का स्तर कैसा है , फिर ही आप अपनी तैयारी शुरू करें ।

हम कामना करते हैं आप खूब मेहनत करेंगे व इस नेट/जे० आर० एफ० हिंदी की परीक्षा में अवश्य ही सफल होंगे, हिंदी ज्ञान सागर की ओर से आपको अनेक शुभकामनाएँ, व ब्लॉग में आने के लिए आपका बहुत-बहुत आभार ।

UGC-NET-JRF (Paper-1) General Syllabus

UGC-NET-JRF Hindi (Paper-2) Syllabus

Related Posts

1 comment

Manoj August 16, 2022 - 1:03 pm

Very useful article

Reply

Leave a Comment

* By using this form you agree with the storage and handling of your data by this website.

This website uses cookies to improve your experience. We'll assume you're ok with this, but you can opt-out if you wish. Accept Read More

Don`t copy text!
UA-172910931-1